Loading...

Q&A
07:38 PM | 10-04-2020

I have severe white discharge problem and pain before periods. I also have pcod and a bulge in lumbar disc, because of this there is a lot of pain in my legs and muscles. Please help. I consulted a gynaecologist and an orthopedician but there is no improvement.

The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
3 Answers

11:26 AM | 13-04-2020

Hello User,

If we keep on loading ourselves with adulterated things and chemical-based products, we are definitely going to be prone to any kind of illness. Once the disease enters the body, it is the whole body that needs to heal and not just the part and this is what natural cure is all about.

A disease of the reproductive system starts with the high fat and chemical-based diet that we are loading our gastrointestinal tract with. Any disease can make you pre-dispose to another, because of your lifestyle continuation, if you take care of your lifestyle at this moment than there are definite chances that you get yourself treated well and your menstrual cycle will regularise treating your PCOD.

This in turn also will help your lumbar disc bulge as with correct with right minerals and heal the muscles and bones which weakens due to bad diet and bulge happen.

But we have to treat our body on the whole so that we can even stop any future problems with our reproductive tract and skeletal system. In any case, the cure remains the same, which is a holistic cure in nature's way.

Eat:

  • Start with food items like jaggery, dates, sprouts, green leafy vegetables which help in increasing iron content which helps in dissolving ovarian cyst.
  • Vitamin C addition helps in easy-iron absorption, for example adding lemon in dals. Vitamin C keeps our cells activated by absorbing the iron in the body.
  • Include one fruit like apple, papaya, a banana a day to have a healthy GUT. Bananas have potassium which is excellent for our muscles and bones.
  • Apply ice packs every 20 minutes which helps in lowering the pain which you have before periods.
  • Cumin water acts as a coolant and helps in enhancing the reproductive cycle and lowers down white discharge.

Exercise:

  • Sleep on your back, raise your one leg and start rotating in a circular motion for 5 times and place it back, repeat the same with another leg. This will elevate your uterine muscles.
  • Squats are another exercise to improve uterine health. Do it 15-20 times at one time.
  • Sit and take 10-15 long deep breaths from the abdomen, to release all the toxicity from the body helping us to gain back our normal menstrual cycle.
  • Practice flexion and extension of back in-comfort which will help in toning muscles of the back. 

Meditation:

While sleeping, take a bowl of water. Put two-three essential oil drops like lavender or orange and inhale it. It will help in calming nerves and automatically our body will start getting the rhythm back. Listen to music for 15 minutes by closing your eyes and deep breathing.

This will help in controlling anxiety during stress.

Sleep:

Sleep should be of 7-8 hours, sound. This will help in releasing all stress and treat all the issues in a healthy manner. It is time to get yourself healthy and wise.

Hopefully, these suggestions will be helpful

Thank you.



11:24 AM | 13-04-2020

Hello,

The root cause for every health problem is the accumulation of toxins in the body due to a wrong lifestyle and wrong eating habits. Accumulation toxins lead to a complete imbalance in the body and hormonal imbalances which leads to many health issues like white discharge i.e. leucorrhea, pain etc. All your problems are inter-related to each other and are the result of heavy toxins. The body is giving you signs in the form of these health issues. 
So, by making small changes in your daily habits you can achieve a healthy body and mind for sure. 

Diet to follow- 

  • Start the day with 2 glasses of warm water on an empty stomach as this will help in flushing out the toxins. 
  • Have overnight soaked almonds.
  • Always be on a complete plant based natural diet. 
  • Eat fresh fruits and green leafy vegetables. 
  • Include salads, nuts, beans in your diet. 
  • Have freshly prepared homemade fruit juices with fibres. 
  • Include sprouts in your meals. 
  • Replace white rice with brown rice. 
  • Use cold-pressed oil for cooking. 

Foods to avoid- 

  • Avoid packaged foods and processed foods. 
  • Avoid tea, coffee and other such drinks. 
  • Avoid carbonated drinks. 
  • Avoid deep-fried oily foods and spicy foods.
  • Avoid daily food items like milk, curd, paneer, butter as they are difficult to digest by the human digestive system and hence facilitates the accumulation of toxins in the body. 
  • Also, avoid animal foods. 
  • Avoid refined grains and refined oils. 

Exercise 

For a well functioning body, exercise is equally important as diet. Doing any kind of physical activity improves metabolism and also improves blood circulation. 

  • Start your morning with a short morning walk of at least 30min. 
  • Do 12 sets of suryanamaskar daily. 
  • Do paschimottan asana, trikona asana, gomukha asana, padahasta asana regularly. 
  • Do plank for 5min. Initially start by 1min and then gradually increase it upto 5min. 
  • Do pranayam regularly. 

Sleep 

Sleeping pattern and quality are also very important as it helps in maintaining the circadian rhythm and also in managing the stress. A disturbed circadian rhythm and stress also lead to health issues. Hence, having proper sleep is important. 

Take 8-10 hours of sleep regularly. 

Sleep early at night and also wake up early in the morning. 

Don't use any electronic devices 1hour before sleeping. Read books before sleeping. This will help to improve the quality of sleep. 

Thank you 



11:26 AM | 13-04-2020

हेलो,
कारण -1. पीसीओडी एक ऐसी स्थिति है जिसमें महिलाओं की ओवरी बड़ी हो जाती है और फॉलिकल सिस्ट बहुत छोटा हो जाता है। जिन महिलाओं को पीसीओडी होता है उनमें रीप्रोडक्टिव या हार्मोनल इंमबैलेंस के लक्षण दिखते हैं इस स्थिति में ओवरी में एस्ट्रोजन ज्यादा बनने लगती है इसकी ज्यादा मात्रा एग्स के विकास और ओवाल्यूशन के दौरान शरीर से बाहर निकलने की प्रक्रिया पर असर डालती है।

लाइफ़स्टाइल में परिवर्तन एक्सरसाइज ना करना खाने खानपान की आदत में बदलाव प्रदूषण स्ट्रेस आराम ना करना अपने जीवन में बैलेंस ना बना पाना पीसीओडी होने के कारण है।

2.बल्जिंग डिस्क रीढ़ की हड्डी से जुड़ी बीमारी है. बल्जिंग डिस्क उस स्थिति को कहते हैं जब कशेरुकी डिस्क (Vertebrate disk) की भीतरी परत, बाहर की ओर निकलने लगती है. ये डिस्क पर ज्यादा प्रेशर की वजह से बनती है। 

3.व्हाइट डिस्चार्ज (सफेद पानी) सामान्यतौर पर महिलाओं को पीरियड्स के पहले या बाद में होता है। महिलाओं के शरीर में बनने वाला प्रोस्टाग्लैंडीन रसायन मासिक धर्म में होने वाली समस्याओं का कारण है। जो ऊतक (tissue) गर्भाशय का अंदरूनी अस्तर बनाता है वही इन रसायनों को भी बनाता है। प्रोस्टाग्लैंडीन गर्भाशय की मांसपेशियों में संकुचन को बढ़ाता है। जिन महिलाओं में अधिक मात्रा में प्रोस्टाग्लैंडीन पाया जाता है उनमें संकुचन अधिक होने के कारण मासिक धर्म में दर्द भी अधिक होता है।

पोषक तत्व का शरीर में ठीक प्रकार से संचार ना हो पाना इस रोग का मुख्य कारक है। शरीर के किसी भी हिस्से में दर्द का मुख्य कारक होता है शरीर में बढ़ा हुआ अम्ल शरीर का हाजमा खराब होने पर हमारे शरीर में अम्ल की अधिकता हो जाती है शरीर में अम्ल की अधिकता होने पर रक्त संचार में कमी आती है और यह दर्द का कारक बनता है

समाधान - 1.गहरे हरे रंग के पत्तों का जूस बहुत ही फायदेमंद है 25 से 30 ग्राम पालक के पत्ते या धनिया के पत्ते या पुदीना के पत्तों को पीसकर उसमें 200 ml पानी मिलाएं। खाली पेट इसको पिए यह काफी लाभकारी है इसके जगह पर दूब घास, बेलपत्र, का जूस भी बहुत लाभकारी है

2. सूरज की रोशनी में सर और आंख को ढककर 20 मिनट के लिए लेटे पांच 5 मिनट आगे पीछे दाएं बाएं धूप की रोशनी लें। यह प्रक्रिया इस रोग में काफी लाभकारी साबित होगा।

3. मानसिक और शारीरिक क्रियाओं में संतुलन लाए। दौड़ना,  बैडमिंटन खेलना, योगासन करना,  प्राणायाम करना बहुत ही फायदेमंद है। प्रतिदिन आधे घंटे के लिए इन क्रियाओं में संलग्न हो।

4. अपने खाने में सेंधा  नमक दिन में एक बार केवल पके हुए खाने में लें। क्योंकि नमक शरीर के मिनरल  को सोख लेती है।

खाना खाने से एक घंटे पहले नाभि के ऊपर गीला सूती कपड़ा लपेट कर रखें या खाना के 2 घंटे बाद भी ऐसा कर सकते हैं।

5.मेरुदंड स्नान के लिए अगर टब ना हो तो एक मोटा तौलिया गीला कर लें बिना निचोरे उसको बिछा लें और अपने मेरुदंड को उस स्थान पर रखें।

मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें। हमेशा इस बात ध्यान रखें और हफ़्ते में 3 दिन मेरुदंड का स्नान करें। 

जीवन शैली -1आकाश तत्व - एक खाने से दुसरे खाने के बीच में अंतराल (gap) रखें।

फल के बाद 3 घंटे, सलाद के बाद 5 घंटे, और पके हुए खाने के बाद 12 घंटे का (gap) रखें।

2.वायु तत्व - प्राणायाम करें, आसन करें। दौड़ लगाएँ।

3.अग्नि - सूर्य की रोशनी लें।

4.जल - अलग अलग तरीक़े का स्नान करें। मेरुदंड स्नान, हिप बाथ, गीले कपड़े की पट्टी से पेट की गले और सर की 20 मिनट के लिए सेक लगाए। 

स्पर्श थरेपी करें। मालिश के ज़रिए भी कर सकते है।

कपूर मिश्रित नारियल तेल से त्वचा के उस हिस्से की मालिश करें जहां पर समस्या है।  घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

5.पृथ्वी - सुबह खीरा 1/2 भाग धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है।

फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurd) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। 

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6.सेंधा नमक केवल एक बार पके हुए खाने में लें। जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। चीनी के जगह गुड़ लें।

7.एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

8.उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

 

 

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator

 

 

 

 


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan











Whoops, looks like something went wrong.