Loading...

Q&A
08:48 AM | 21-10-2020

I m suffering from obesity since 2 years please suggest some home remedies?


The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
3 Answers

03:12 PM | 22-10-2020

Hello Dinesh,

Weight gain results due to a sedentary lifestyle, lack of physical activities, and high fatty diet. For reducing the weight, it is necessary to remove the excess fats from the body, and along with this following a natural lifestyle and correct eating habits is also important. 

Diet 

  • Start the day with a glass of warm water with a few drops of lemon juice in it. This will help to improve the metabolism and also to flush the toxins out of the body. 
  • Drink green tea twice a day, one in the morning on an empty stomach and the other at night before sleeping. 
  • Soak the cumin seeds in a glass of water overnight. In the morning, boil the water and add a slice of ginger to it. Strain the water and drink it. This water will be beneficial for reducing fat.
  • Always eat only plant-based natural foods. 
  • Drink freshly prepared homemade fruit juices with fibers. 
  • Have sprouts, nuts, and beans. 
  • Eat fresh, seasonal, and locally available fruits and vegetables. 

Exercise 

Daily exercising and yoga are also important to improve the metabolism and also to improve blood circulation. 

  • Start the day with a short morning walk or jogging for at least 30min. 
  • Do 12 sets of suryanamaskar daily. 
  • Practice pranayam regularly, like bhastrika, kapalbhati and anulom-vilom pranayam. 
  • Take sunrays early in the morning regularly for 15-20min. 

Sleep

Sleeping patterns and quality of sleep also matter. Sometimes lack of sleep may also result in weight gain. So, take proper sleep of at least 7-8 hours daily. Sleep early at night at around 10 pm and also wake up early in the morning at around 6 am. 

Thank you 



02:51 PM | 23-10-2020

हेलो,
कारण- चयापचय प्रणाली अद्वितीय तरीके से काम करती है। हाजमा ठीक होने पर यह कुशल और तेजी से काम करने वाली चयापचय प्रणाली होती है जो वसा को जमा नही करती है। खराब हाजमा होने पर चयापचय प्रणाली धीमी गति से कार्य करती है, जो वजन बढ़ाने की ओर ले जाती हैं। व्यस्त जीवनशैली, तनाव और खानपान को लेकर लापरवाही मोटापे का कारण बनता जा रहा है, जो वजन बढ़ने के कारणों में सबसे अहम है क्योंकि ऐसा करने से खराब हाजमा होता है। प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति को अपनाकर पूर्ण स्वास्थ्य पा सकते हैं।

समाधान - 1. स्वस्थ और संतुलित भोजन करें, जो नमक और वसा में कम हो।

2. दौड़ लगाएं। मत्स्येन्द्रासन, धनुरासन, अनुलोम विलोम, पवन मुक्तआसन करें। पश्चिमोत्तानासन, अर्धमत्स्येन्द्रासन, शवासन करें।

3. पेट पर पर खीरा का पेस्ट लगाएँ। पैरों को 20 मिनट के लिए सादे पानी से भरे किसी बाल्टी या टब में डूबो कर रखें।

खाना खाने से एक घंटे पहले नाभि के ऊपर गीला सूती कपड़ा लपेट कर रखें या खाना के 2 घंटे बाद भी ऐसा कर सकते हैं।

नीम के पत्ते का पेस्ट अपने नाभि पर रखें। 20 मिनट तक रख कर साफ़ कर लें।

4. मेरुदंड स्नान के लिए अगर टब ना हो तो एक मोटा तौलिया गीला कर लें बिना निचोरे उसको बिछा लें और अपने मेरुदंड को उस स्थान पर रखें।

मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें। हमेशा इस बात ध्यान रखें और हफ़्ते में 3 दिन मेरुदंड का स्नान करें। 

जीवन शैली - जीवन शैली-  1आकाश तत्व - एक खाने से दुसरे खाने के बीच में अंतराल (gap) रखें।

फल के बाद 3 घंटे, सलाद के बाद 5 घंटे, और पके हुए खाने के बाद 12 घंटे का (gap) रखें।

2.वायु तत्व - प्राणायाम करें, आसन करें। दौड़ लगाएँ।

3.अग्नि - सूर्य की रोशनी लें।

4.जल - अलग अलग तरीक़े का स्नान करें। मेरुदंड स्नान, हिप बाथ, गीले कपड़े की पट्टी से पेट की गले और सर की 20 मिनट के लिए सेक लगाए। 

स्पर्श थरेपी करें। मालिश के ज़रिए भी कर सकते है। नारियल तेल से घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise) में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

5.पृथ्वी - सुबह खीरा 1/2 भाग, धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashgourd ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है।  फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल (yellow pumpkin) 50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgourd) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6.सेंधा नमक केवल एक बार पके हुए खाने में लें। जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं।

तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। चीनी के जगह गुड़ लें।

7.एक नियम हमेशा याद रखें ठोस (solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

8.उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)



03:27 PM | 22-10-2020

Dear Dinesh,

We do understand that being obese is a cause of concern. However, we urge you not to get stressed as you can achieve an optimal body weight by making certain lifestyle changes.

Nature Cure believes that the root cause of most diseases/health conditions is Toxaemia- the accumulation of toxins within the body.  While some toxins are an output of metabolism, others are added due to unnatural lifestyle- wrong food habits, lack of rest, and stress. Typically in a wrong lifestyle, we tend to carry excess weight in the form of toxins and excess fat that the body was not able to process. Adopting a natural lifestyle will help you cleanse your body from within and weight loss comes as a pleasant side-effect of this process.

Should you need help in doing so you could register yourself for Wellcure's Weight Loss program and get a personal consultation from our Natural Health Care coach. This is a month-long program designed to help you lose weight holistically. People who have used the same have not only lost weight successfully, they have felt and overall improved quality of life as well.

In the meanwhile, please read stories on losing weight naturally here. All these experiences are based on following a natural lifestyle, whole plant-based foods, high intake of raw foods.

Wishing you all the best!

Team Wellcure


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan











Whoops, looks like something went wrong.