Loading...

Q&A
07:46 PM | 16-04-2020

I am have a skin allergy and have lot of itching too because of hives that keep coming and disappearing. Please help me to get rid of this problem.

The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
3 Answers

07:07 PM | 17-04-2020

Hello User,

We can feel the trouble you are having through this problem of yours.

Hives in medical terminology are also caused by urticaria, Urticaria is caused by the pollution, toxic diet and also the stressors which we get exposed to in our day to day living. With the above food mentioned can be the cause for some people, the basic cause remains the same which is of chronic food habits which cause the problems.

So, the main thing here on which we have to give our complete attention to is changing our lifestyle with inclusions and exclusion of few things in our daily routine will help us in treating the problem which is primarily through diet.

So here are four things to deal with:

Eat:

  • Citric helps in treating skin disorders effectively, we have so many sources like sprouts, sweet potatoes, capsicum, papaya which when included in your regular diet will help in treating the issue.
  • Apple and carrot juice are very beneficial in treating the disease. One apple and one carrot blend them in water and make a thin consistency. This mixture should be helpful.
  • Another thing that helps in treating skin disease is the application of aloe vera gel and coconut oil. After bathing during night time you can apply aloe vera gel and coconut oil.
  • Avoid milk and milk products as they can aggravate your state.

Exercise:

  • Exercising helps in treating any diseases as because of exercise our blood is circulated well and our body parts become healthier.
  • A daily session of Suryanamaskar is helpful in treating hives as blood circulation improves. 
  • A brisk walk in the morning in the sun helps in treating the issue. Sun helps in treating all the diseases at the same time builds our immunity. Sun exposure is very important in order to have a healthy life. A 30-minute walk in the early morning sun is helpful.

Meditation:

Meditation helps in treating any problem which has stress as the cause. Mindful meditation is healthy, music therapy of 15 minutes is required in order to have a comfortable and fresh mood. Doing it before sleep will help in getting a sound sleep.

Sleep:

Good sleep helps in treating the problem, sleep helps in rejuvenating our cells and will help in building up our immunity. Our sleep cycle compromises of 90 minutes, this cycle should be repeated 5 times that 7-8 hours of sleep is important in order to have a better life.

Hopefully, this will surely help you treating hives.

Thank you



07:15 PM | 17-04-2020

Hi,

 We understand your pain, as skin is the largest surface area organ. The state of our skin truly reflects the state of our health. Having a skin issue means there is toxic waste in the body which it is unable to eliminate. 

Adopting a natural lifestyle will help you reclaim your skin health. We suggest you take a personal consultation with our Natural Health Coach who can understand your background better & suggest the way forward. You can explore our Nature-Nurtures Program for the same. The Natural Health Coach will guide you on diet, sleep, exercise, stress, etc to correct your existing routine & make it in line with Natural Laws. Let us know if you are interested.

 We wish you good health. 

Regds
Team Wellcure  



08:58 PM | 16-04-2020

हेलो,
कारण -  हाइव्स को अर्टिकेरिया के रूप में भी जाना जाता है। यह त्वचा पर पीले लाल बंप और सूजन पहियों (प्लेक) के प्रकोप से विशेषता है।  कुछ एलर्जी के खिलाफ शरीर की प्रतिक्रिया है।

त्वचा डंक या जलन पैदा कर देता है। वे शरीर के किसी भी हिस्से जैसे कान, गले, जीभ, होंठ और चेहरे पर दिखाई दे सकते हैं। हाइव्स फेफड़ों, जीभ और गले के वायुमार्ग के मार्ग को अवरुद्ध कर सकता है, जिससे सांस लेने में मुश्किल होती है। 

स्वस्थ त्वचा नमी को बनाए रखने में मदद करती है और आपको बैक्टीरिया और अन्य एलर्जी से बचाती है।

अम्ल की अधिकता होने पर त्वचा की यह नमी खो जाती है त्वचा हमारे शरीर का सहज ज़रिया है अम्ल (acid) को प्रतिबिम्बित करने का। शरीर (elimination)निष्कासन की प्रक्रिया में लगा है। हम उसको आहार शुद्धि से मदद करें।

समाधान - 1. खीरा एलोवेरा का पल्प का पेस्ट वंहा लगाएँ जंहा परेशानी है।  20मिनट के लिए लगाएँ।

2. त्वचा को गुलाब जल बेसन और हल्दी से साफ़ करें। साबुन या कोई भी क्रीम का प्रयोग बंद कर दें।

3. खाना खाने से एक घंटे पहले नाभि के ऊपर गीला सूती कपड़ा लपेट कर रखें या खाना के 2 घंटे बाद भी ऐसा कर सकते हैं।नहाने के पानी में ख़ुशबू वाले फूलों का रस मिलाएँ। नींबू या पुदीना का रस मिला सकते हैं। नीम का रस भी बहुत फ़ायदा करेगा।

4. मेरुदंड (स्पाइन) सीधा करके बैठें। हमेशा इस बात ध्यान रखें। हफ़्ते में 3 दिन मेरुदंड का स्नान करें। मेरुदंड स्नान के लिए अगर टब ना हो तो एक मोटा तौलिया गीला कर लें बिना निचोरे उसको बिछा लें।अपने मेरुदंड को उस पर रखें।

5. बार बार कुछ भी खाने से बचे फल के बाद 3 घंटे का अंतराल (gap) रखें। क्षार (alkaline) जूस के बाद 1घंटे का अंतराल रखें। कच्चे सब्ज़ियों के सलाद के बाद 5 घंटे का अंतराल रखें। अनाज और पकी हुई सब्ज़ी अगर तेल रहित (oil free) के बाद 8 घंटे का तेल घी का प्रयोग किया गया हो तो 12 से 13 घंटे का अंतराल रखें। रोज़ाना 15 घंटे का उपवास करें जैसे रात का भोजन 7 बजे तक कर लिया और सुबह का नाश्ता 9 बजे लें। 

6. त्वचा या शरीर के किसी भी हिस्से को स्वस्थ प्रदान करने के लिए ज़रूरी है। सुबह लंबा गहरा स्वाँस अंदर भरें और रुकें फिर पूरे तरीक़े से स्वाँस को ख़ाली करें रुकें फिर स्वाँस अंदर भरें ये एक चक्र हुआ। ऐसे 10 चक्र एक टाइम पर करना है। ये दिन में चार बार करें।

7. सूर्य उदय के एक घंटे बाद या सूर्य अस्त के एक घंटे पहले का धूप शरीर को ज़रूर लगाएँ। सर और आँख को किसी सूती कपड़े से ढक कर। जब भी लेंटे अपना दायाँ भाग ऊपर करके लेटें ताकि आपकी सूर्य नाड़ी सक्रिय रहे।

8. सुबह ख़ाली पेट आधा खीरा 5 पुदीने या करी पत्ते के साथ पिस कर उसमें 100 ml पानी मिला कर पिएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100 ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। जूस को मुँह में रख कर एक बार सहज स्वाँस लें फिर घूँट अंदर लें।

2 घंटे बाद कोई भी एक तरीक़े का फल नाश्ते में लें।फल को ठीक से चबा कर खाएँ। कोई नमक या चाट मसला या चीनी, दूध मिक्स ना करें। 

दोपहर 12 बजे सफ़ेद पेठे (ash guard) 20 ग्राम पीस 100 ml पानी मिला कर लें।

नमक सेंधा ही प्रयोग करें। नमक की पके हुए खाने में भी बहुत कम लें। सब्ज़ी पकने बाद उसमें नमक डालें। नमक पका कर या अधिक खाने से शरीर में (fluid)  की कमी हो जाती।

सलाद दोपहर 1बजे बिना नमक के खाएँ तो अच्छा होगा क्योंकि नमक सलाद के गुणों को कम कर देता है। 

सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ash guard) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी लें।रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लें। रात 8 बजे के बाद कुछ ना खाएँ, 12 घंटे का (gap) अंतराल रखें। 8बजे रात से 8 बजे सुबह तक कुछ नहीं खाना है।

9.एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ ले सकते हैं।जानवरों से उपलब्ध होने वाले भोजन वर्जित हैं। तेल, मसाला, और गेहूँ से परहेज़ करेंगे तो अच्छा होगा। चीनी के जगह गुड़ लें। हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

10. उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200 ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan











Whoops, looks like something went wrong.