Loading...

Q&A
10:31 AM | 14-09-2020

Hi! I am 34 years. I am facing pitta dosha related health issues. There is heat in my blood and dryness in skin. Kindly suggest ways to improve health. Thanks.

The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
4 Answers

05:29 PM | 14-09-2020

Hello User,

The reason you might be getting this type of condition is because of getting low vitamin C and getting exposed to excessive chemical-based products, which cause heat in the body, and skin becomes dry. The tamasic diet of state and adulterated food also causes this state. Here are some remedies which can help in healing skin as soon as possible.

Eat:

  • Start with food items like jaggery, dates, sprouts, green leafy vegetables, which help treating pigmentation.
  • Starting your day with two-three glasses of warm water, which helps in flushing out all the toxins. This is the first step to take for healing your skin.
  • Vitamin C addition helps in easy-iron absorption. For example, adding lemon in dals vitamin C helps in increasing collagen and results in healthy skin. Have a glass of chia seeds(one tablespoon) soaked in one glass of water with one tablespoon of lemon to get healthy skin.
  • Include one fruit like an apple, papaya, a banana a day to have a healthy GUT; excretion will help in releasing the waste from the body.

There are face packs which you can try:

1. Apply tea tree oil on the dry area, which will help in treating the same. Apply twice a day.

2. Massage your skin every night with coconut oil and naturally extracted aloe vera gel, one teaspoon each. 

Thank you



12:19 PM | 28-09-2020

Hello,

The reason that you are facing such health issues may be consumption of high spicy and oily diet, use of chemical-based products, exposure to pollution or deficiency of vitamins. The problems can be resolved by making some changes in the diet and lifestyle. Some local applications can also be used.

Diet 

  • Start the day with a glass of warm water with some drops of lemon juice in it. This will help to remove the toxins out of the body.
  • Include Vitamin C in your diet. Have blueberries, oranges, amla and lemons.
  • Drink herbal tea twice a day.
  • Drink freshly prepared homemade fruit juices with fibres. 
  • Have soaked dry fruits and sprouts in your diet for getting easily absorbable nutrients. 

Local application 

  • Apply aloe vera gel on the skin.
  • Apply coconut oil on the affected area. 
  • Apply a paste of turmeric and water on the affected area. Keep it for 10 minutes and then rinse it with normal water.

Sleep

Sleep is important as our body repairs the cells and tissues while we sleep. So, it is important to have good quality sleep daily. Hence, take proper sleep of atleast 7-8hours daily. Sleep early at night at around 10 pm and also wake up early in the morning at around 6am. 

Thank you 

 



09:53 PM | 17-09-2020

हेलो,
कारण - पित्त दोष को दूर करने के लिए अपने आहार शैली में रस फाइबर और जीवन युक्त भोजन ले। पित्त दोष   पाचन तंत्र को स्वस्थ न रखने पर उत्पन्न होता हैैै। प्राकृतिक जीवन शैली के अनुसार पंच तत्व को अपनेे आहार शैली में शामिल करके स्वस्थ कर सकते हैं।

प्राकृतिक चिकित्सा पद्धति में इसका समाधान है।

समाधान - 1. चार भिंडी को लंबा काटकर एक गिलास पानी में डाल दें और सुबह खाली पेट नेचुरल मोशन होने से पहले उसको पी लें। पीते वक्त इस बात का ध्यान रखें कि पानी को मुंह में रख रख केपीए।2. सूर्य की रोशनी में 20 मिनट का स्नान सूर्य की रोशनी से करें 5 मिनट सामने 5 मिनट पीछे 5 मिनट दाएं 5 मिनट बाएं भाग में धूप लगाएं। धूप लेट कर लेना चाहिए धूप की रोशनी लेते वक्त सर और आपको किसी सूती कपड़े से ढक ले। सूर्य नारी मंद होने पर  इन्फेक्शन अधिक होता है अतः आप जब भी सोए अपना दायां भाग ऊपर करके सोए। 

3. प्रतिदिन अपने पेट पर खाने से 1 घंटे पहले या खाना खाने के 2 घंटे बाद गीले मोटे तौलिए को लपेटे एक तौलिया गिला करके उसको निचोड़ लें और हूं उस तौलिए को 20 मिनट तक अपने पेट पर लपेटकर रखें ऐसा करने से आपका पाचन तंत्र दुरुस्त होगा।

4. हर 3 घंटे में लंबा गहरा श्वास अंदर लें उसको थोड़ी देर रोकें और फिर सांस को खाली करें। खाली करने के बाद फिर से रुके और फिर लंबा गहरा सांस ले। यह एक चक्र है ऐसा दिन में 10 चक्र करें केवल एक शर्त का पालन करें जब आप लंबा गहरा सांस ले रहे हैं तो अपनी रीढ़ की हड्डी को सीधा रखें ऐसा करने से आपके शरीर में ऑक्सीजन की मात्रा का बढ़ेगी और ऑक्सीजन का संचार सुचारू रूप से हो पाएगा।

5.सुबह खीरा 1/2 भाग धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आ कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। 

फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल सूखे फल नाश्ते में लें।दोपहर के खाने में सलाद नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashguard) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। 

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6. एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ ले सकते हैं।हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 8 बजे सलाद लें।

7. उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)



09:47 PM | 17-09-2020

Thanks a lot Mam

Lemon and citrus items don’t suit me at all


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan











Whoops, looks like something went wrong.