Q&A
02:31 PM | 08-01-2021

Thanks for this opportunity. My issue is regarding insomnia. I am not getting proper deep sleep from quite a long time now. This is causing many problems in my life. I have also lost 7 to 8 kgs which my doctor says is due to lack of sleep. Kindly guide me on this issue. Thanks. Mahesh Daswani


The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
3 Answers

12:23 PM | 11-01-2021

Hello Mahesh,

It is very good that you are concerned about your sleep and want to do it naturally. A good night's sleep is very important for mental health as well as for physical health. The reasons for a bad quality sleep could be many.

Reasons for a bad sleep:

  • Stress 
  • Wrong eating habits.
  • Not doing any physical work.
  • Inappropriate sleeping pattern.
  • Inappropriate sleeping environment. 

Meditation:

Meditation is very important for mental health. It relaxes our mind and bursts all the stress. So, practice meditation regularly for atleast 15 to 20 mins.

Physical activity:

  • Physical activities are necessary for the well functioning of the body. It may be in the form of yoga or some exercise. 
  • She can do suryanamaskar, paschimottan asana, gomukha asana, trikona asana under proper guidance.

Get fresh air:

Getting fresh air is also important. Practice deep breathing exercises like anulom-vilom pranayam. Walk in a garden or in a place full of trees. 

Improve sleeping environment:

  • Keep the sleeping environment free of noise.
  • Keep the room dark and cool.
  • Make sure that the bed is comfortable to sleep.
  • Reserve the bed for sleeping and don't use it for eating, working on laptop, etc.

Maintain a sleep-wake cycle or circadian rhythm:

  • Try to sleep and wake up at the same time as this will refresh your mind and will maintain the circadian rhythm. 
  • Avoid daytime naps and ask her to control if she feels sleepy before the sleeping time as this will disturb the quality of sleep. 

Diet:

  • Correct diet is also important as sometimes the inappropriate digestion leads to health issues which also interferes with the sleep quality.
  • So, have only plant based natural foods in your diet. Include fresh fruits and vegetables in your meals. Eat salads, nuts, sprouts. 
  • Have coconut water and fresh fruit juices.
  • Drink 8-10 glasses of water throughout the day. 

Thank you.



02:46 PM | 18-01-2021

Dear Mahesh,

Insomnia or the inability to sleep well is definitely a cause of concern! Yes, a good night's sleep indeed plays an important role in maintaining good health and as you mentioned it can lead to further problems like weight loss. There are a number of factors that govern the quality of our sleep, like the food we eat, our stress level, nature of work, physical activity, emotional well-being and so on. When we align our habits and lifestyle to the Laws of Nature we can ensure the right inputs to our body. Physical, as well as mental health, becomes a natural outcome. We would recommend you to re-consider your current lifestyle. Try and align it to nature. 

You can explore our Natural Health Coaching Program that helps you in making the transition, step by step. Our Natural Health Coach will look into your daily routine in a comprehensive way and give you an action plan. She / he will guide you on diet, sleep, exercise, stress to correct your existing routine & make it in line with Natural Laws

In the meanwhile, you could refer to the following resources:

  1. Pls watch this video on how establishing a sleep routine & following a natural lifestyle can help you get good sleep - Transition Your Body Towards Deep Sleep.

  2. Blogs -
     

Wishing you good health!

Team Wellcure



02:53 PM | 15-01-2021

हेलो,
कारण - इंसोमेनिया और नींद का आना सूचक है इस बात का मस्तिष्क में  ऑक्सीजन और रक्त का संचार ठीक प्रकार से नहीं हो पा रहा है। यह मानसिक रोग उत्पन्न करता है। रक्त और ऑक्सीजन के संचार में कमी होने का मुख्य कारण पाचन तंत्र में अम्ल का बढ़ना है। जैसे वायुमंडल में हवा दूषित होने पर ऑक्सीजन की मात्रा कम हो जाती है उसी तरीके से शरीर में अम्ल की मात्रा बढ़ने से ऑक्सीजन और रक्त की संचार में कमी आती है।

प्राकृतिक जीवन शैली को अपनाकर इसे पूर्ण रूप से ठीक किया जा सकता है इसको ठीक होने में 8 से 10 महीने का समय लग सकता है।

समाधान- प्रतिदिन आप ख़ुद को प्यार दें अपने बारे में 10 अच्छी बातें कोरे काग़ज़ पर लिख कर और प्रकृति को अपने होने का धन्यवाद दें।

मानसिक समस्या भी इसी शरीर की समस्या है सब कुछ इस बात पर निर्भर करता है कि हम किसी भी परिस्थिति में सकारात्मक सोंच रखते हैं या नकारात्मक।

प्राकृतिक जुड़ाव आपको सकारात्मक सोंच प्रदान करेंगी क्योंकि प्राकृतिक जीवन शैली अपने आप में पूर्ण भी है और जीवंत भी है। पाँच तत्व से प्रकृति चल रही है और उसी पाँच तत्व से हमारा शरीर चल रहा है।

1. सर पर जब इस तरीके की समस्या देखी जाती है तो हमारी सलाह होती है कि सर पर सूती कपड़ा बाँध कर उसके ऊपर खीरा और मेहंदी या करी पत्ते का पेस्ट लगाएँ, नाभि पर खीरा का पेस्ट लगाएँ।पैरों को 20 मिनट के लिए सादे पानी से भरे किसी बाल्टी या टब में डूबो कर रखें।

2. खानपान में मुख्य रूप से गहरे हरे रंग के पत्तों का जूस बहुत ही फायदेमंद होता है। गहरे हरे रंग के पत्तों में क्लोरोफिल होता है और ऑक्सीजन की संचार में यह बहुत ही मददगार साबित होता है।

3. दौड़ लगाएं ये बहुत जरूरी है। इसके अलावा कुछ आसन प्राणायाम करें जैसे कि भ्रामरी प्राणायाम,ताड़ासन, नटराजासन

वृक्षासन,हस्तपादासन, सर्वांगासन, हलासन, पवन-मुक्तासन, अनुलोम-विलोम प्राणायाम करें। 

लंबा गहरा श्वास अंदर लें रुको थोड़ी देर सांस को पूरी तरीके से खाली करें और फिर रुके थोड़ी देर ऐसा करने से आपके शरीर में ऑक्सीजन का सरकुलेशन ठीक हो जाएगा ऑक्सीजन की मात्रा ठीक हो जाएगी।

सूर्य नमस्कार 10 बार करें सूर्य नमस्कार बहुत ही उपयोगी है हमारे सिर के हिस्से में रक्त संचार के लिए।

पवनमुक्तासन अम्ल को कम करेगा शरीर में अम्ल के कम होने से सिर में ऑक्सीजन और रक्त का संचार होगा।

4. मेरुदंड स्नान काफी लाभकारी होता है यह हमारे स्नायु तंत्र को स्वस्थ रखता है । एक मोटा तोलिया लेकर उसको भिगो दें बिना निचोड़े योगा मैट पर बिछाए और उसके ऊपर कमर से लेकर के कंधे तक का हिस्सा रखें। उस गीले तौलिए पर रहे 20 मिनट के बाद इसको हटा दें। ऐसा करने से आप का मेरुदंड में ब्लड और ऑक्सीजन का सरकुलेशन ठीक हो जाएगा। जो कि हमारे सिर के नसों से कनेक्टेड रहता है।

5.पृथ्वी - सुबह खीरा 1/2 भाग धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। 

फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurd) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। 

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6.एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 7 बजे सलाद लें।

7. उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)

 


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan