Loading...

Q&A
10:46 AM | 09-10-2020

I am suffering from vertigo and cervical spondolysis. I have taken vertin for 3 months and still have lot of dizziness. Pls suggest a natural remedy for dizziness.


The answers posted here are for educational purposes only. They cannot be considered as replacement for a medical 'advice’ or ‘prescription’. ...The question asked by users depict their general situation, illness, or symptoms, but do not contain enough facts to depict their complete medical background. Accordingly, the answers provide general guidance only. They are not to be interpreted as diagnosis of health issues or specific treatment recommendations. Any specific changes by users, in medication, food & lifestyle, must be done through a real-life personal consultation with a licensed health practitioner. The views expressed by the users here are their personal views and Wellcure claims no responsibility for them.

Read more
Post as Anonymous User
4 Answers

08:47 AM | 12-10-2020

Hello Naina,

Vertigo has several causes written in medical terms like infection, dehydration and low vitamin D but it all points towards one thing that is our immunity getting vulnerable and easily being suspect to the disease. Your vertigo and dizziness are both co-related with each other. Cervical spondylosis also due to compression of the nerve can produce vertigo.

Because of low sun exposure, our diet cells do not get the needed energy as the sun helps in increasing the function of cells by activating it. Hence sun-basking is where we have to start with treating your vertigo. As it is a chronic problem now when treated with a healthy diet, exercise, meditation, and modulating your sleep cycle we can treat the issue and stress coming with this problem.

The following tips will be helpful:

Eat:

Start the day with two-three glasses of warm water, this will help in flushing out the toxins and improve the state of metabolism by increasing it. The next thing is the inclusion of vegetable juice in your breakfast as this will help in giving the right amount of energy for the day and also, it is an easier way to absorb all the nutrients. Keep at least two hours gap between your food and your sleep timing at night.

  • One inch of ginger crushed, with one teaspoon of lemon in one cup of water boil it for 5-10 minutes will help in treating vertigo.
  • Taking vitamin C rich food items like mosumbi, lemon, berries, oranges will help in treating immunity keeping us away from infections helping to treat vertigo.
  • Almond is a rich source of vitamin especially A which will help in strengthening the auditory pathway and treat vertigo.

Exercise:

  • Taking a brisk walk in the early morning sun rays helps in treating all the problems, as the sun helps in treating the mood and freshens us for the whole day, it stimulates our system and strengthens our immunity. An early morning walk is recommended.
  • Suryanamaskar will help in treating the health issues and will help in dealing with all problems, 12 sets a day is recommended. If you are a beginner start with 6 and increase it.
  • Shan Mukhi mudra, Paschimottasana, Halasana, Shavasana these asanas if practised daily will help in treating vertigo, practice these asanas after the session of suryanamaskar.

Meditation:

Stop using the gadget an hour before sleep, you can use a fragrant diffuser where you can use essential oils and then with the smell itself you will start feeling calm. Rosemary and lavender oil will be helpful.

Lemon essential oil is very helpful in the treatment of vertigo.

Take 10 long deep breaths, and allow your body to relax, any thought which comes, let it go do not resist. Say the affirmation, "I am healthy and happy" with each breath. This will help in curbing all your issues even in the long run.

Sleep:

The sleep is a very important part of treating any mental symptom, a sleep cycle of 90 minutes should be completed in order to get a sound body. This sleep cycle should be repeated 5 times. This makes 7-8 hours of healthy sleep. This will make your body and mind strong and refreshing. Make sure your room is gadget-free an hour before sleep.

Hopefully, these suggestions will help.

Thank you.



08:46 AM | 12-10-2020

Hello Naina,

Our internal well being determines our outer health. If we are healthy from inside, then it reflects outside. Healthy metabolism and digestion is the key to a healthy body and mind. Disturbed metabolism leads to the accumulation of toxins which in turn results in various diseases. All your health issues are inter-related to each other. Blockage of the arteries resulting from hardening or tearing of these arteries are the causes for cervical spondylitis and vertigo and the dizziness is caused because of the disruption of blood flow towards the inner ear.

What to do-

  • Avoid continuous sitting. 
  • Maintain a correct sitting posture. Make sure that your backbone is straight. 
  • Apply hot pack on the areas of pain.
  • Sit in a warm water bathtub.
  • Put two drops of sesame oil in each of your nostrils every morning. 

Diet

  • Start your day with 2-3 glasses of warm water. This will help to improve the metabolism. 
  • Avoid dairy products like ghee, milk, paneer, curd and also animal foods. 
  • Eat only plant-based natural foods. 
  • Drink sufficient water during the day. 
  • Drink coconut water.
  • Have salads, sprouts, seasonal and fresh fruits, beans, nuts in your diet.

Physical work

  • Being physically active is very essential for a good blood circulation in the whole body.
  • Start the day with a morning walk of atleast 30minutes. 
  • Do skipping for 5 minutes.
  • Perform 12 sets of suryanamaskar. 
  • Do pranayam like anulom-vilom, kapalbhati, bhastrika.

Sleep

Sleep affects our circadian rhythm which had to be maintained for the well being of the body. Hence, the sleep quality and duration matters a lot.

Sleep early at night at around 10 pm and also wake up early in the morning at around 6 am. Sleep for atleast 7-8 hours daily. 

Thank you.



08:47 AM | 12-10-2020

हेलो,
कारण - सिर मेंं चक्कर आना सूचक है इस बात का कि ऑक्सीजन और रक्त का संचार ठीक प्रकार से नहीं हो पा रहा है। रक्त और ऑक्सीजन के संचार में कमी होने का मुख्य कारण पाचन तंत्र में अम्ल का बढ़ना है। जैसे वायुमंडल में हवा दूषित होने पर ऑक्सीजन की मात्रा कम हो जाती है उसी तरीके से शरीर में अम्ल की मात्रा बढ़ने से ऑक्सीजन और रक्त की संचार में कमी आती है। शरीर मेंं अम्ल की मात्रा बढ़ने से सर्वाइकल, स्पॉपोंडलाइटि की संभावनाएं बन जाती हैं साथ ही गलत posture से और भी ज्यादा बढ़ जाताा है। शरीर में अम्लीयता अधिक होने से प्रदाह (inflammation) की समस्या होती है।आपके शरीर में excess प्रोटीन बन रहा या जमा है। जिसके अपच के वजह से शरीर में विषाणु उत्पन्न हो रहे हैं और वह शरीर के तंत्रिकाओं को नुक़सान पहुँचा रहे हैं। इस बीमारी का मूल कारण हाज़मा और क़ब्ज़ है।

प्राकृतिक जीवन शैली को अपनाकर इसे पूर्ण रूप से ठीक किया जा सकता है।

समाधान- 1. सर पर जब इस तरीके की समस्या देखी जाती है तो हमारी सलाह होती है कि सर पर सूती कपड़ा बाँध कर उसके ऊपर खीरा और मेहंदी या करी पत्ते का पेस्ट लगाएँ, नाभि पर खीरा का पेस्ट लगाएँ।पैरों को 20 मिनट के लिए सादे पानी से भरे किसी बाल्टी या टब में डूबो कर रखें।

2. खानपान में मुख्य रूप से गहरे हरे रंग के पत्तों का जूस बहुत ही फायदेमंद होता है। गहरे हरे रंग के पत्तों में क्लोरोफिल होता है और ऑक्सीजन की संचार में यह बहुत ही मददगार साबित होता है।

3. नमक की मात्रा कम ले दिन में एक बार ले और सेंधा नमक या काला नमक ही लें क्योंकि नमक ज्यादा रहने से भी सिर में  फ्लूइड में कमी आती है।  सिर में liquid रहता है  नमक  में सोडियम होता जो कि liquid को सोख लेता है।

4. मेरुदंड स्नान काफी लाभकारी होता है यह हमारे स्नायु तंत्र को स्वस्थ रखता है । एक मोटा तोलिया लेकर उसको भिगो दें बिना निचोड़े योगा मैट पर बिछाए और उसके ऊपर कमर से लेकर के कंधे तक का हिस्सा रखें। उस गीले तौलिए पर रहे 20 मिनट के बाद इसको हटा दें। ऐसा करने से आप का मेरुदंड में ब्लड और ऑक्सीजन का सरकुलेशन ठीक हो जाएगा। जो कि हमारे सिर के नसों से कनेक्टेड रहता है।

5. लंबा गहरा श्वास अंदर लें रुको थोड़ी देर सांस को पूरी तरीके से खाली करें और फिर रुके थोड़ी देर ऐसा करने से आपके शरीर में ऑक्सीजन का सरकुलेशन ठीक हो जाएगा ऑक्सीजन की मात्रा ठीक हो जाएगी।

सूर्य नमस्कार 10 बार करें सूर्य नमस्कार बहुत ही उपयोगी है हमारे सिर के हिस्से में रक्त संचार के लिए।

पवनमुक्तासन अम्ल को कम करेगा शरीर में अम्ल के कम होने से सिर में ऑक्सीजन और रक्त का संचार होगा।

जीवन शैली - 1. आकाश तत्व - एक खाने से दुसरे खाने के बीच में अंतराल (gap) रखें।

फल के बाद 3 घंटे, सलाद के बाद 5 घंटे, और पके हुए खाने के बाद 12 घंटे का (gap) रखें।

2.वायु तत्व - प्राणायाम करें, आसन करें। दौड़ लगाएँ।

3.अग्नि - सूर्य की रोशनी लें।

4.जल - अलग अलग तरीक़े का स्नान करें। मेरुदंड स्नान, हिप बाथ, गीले कपड़े की पट्टी से पेट की गले और सर की 20 मिनट के लिए सेक लगाए। 

स्पर्श थरेपी करें। मालिश के ज़रिए भी कर सकते है।

कपूर मिश्रित नारियल तेल से पैरों के तलवे पर घड़ी की सीधी दिशा (clockwise) में और घड़ी की उलटी दिशा (anti clockwise)में मालिश करें। नरम हाथों से बिल्कुल भी प्रेशर नहीं दें।

5.पृथ्वी - सुबह खीरा 1/2 भाग धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। 

फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurd) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। 

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

6.सुबह खीरा 1/2 भाग धनिया पत्ती (10 ग्राम) पीस लें, 100 ml पानी मिला कर पीएँ। यह juice आप कई प्रकार के ले सकते हैं। पेठे (ashguard ) का जूस लें और कुछ नहीं लेना है। नारियल पानी भी ले सकते हैं। पालक  पत्ते धो कर पीस कर 100ml पानी डाल पीएँ। दुब घास 25 ग्राम पीस कर छान कर 100 ml पानी में मिला कर पीएँ। कच्चे सब्ज़ी का जूस आपका मुख्य भोजन है। 2 घंटे बाद फल नाश्ते में लेना है। 

फल को चबा कर खाएँ। इसका juice ना लें। फल सूखे फल नाश्ते में लें।

दोपहर के खाने में सलाद नट्स और अंकुरित अनाज के साथ  सलाद में हरे पत्तेदार सब्ज़ी को डालें और नारियल पीस कर मिलाएँ। कच्चा पपीता 50 ग्राम कद्दूकस करके डालें। कभी सीताफल ( yellow pumpkin)50 ग्राम ऐसे ही डालें। कभी सफ़ेद पेठा (ashgurd) 30 ग्राम कद्दूकस करके डालें। ऐसे ही ज़ूकीनी 50 ग्राम डालें।कद्दूकस करके डालें।कभी काजू बादाम अखरोट मूँगफली भिगोए हुए पीस कर मिलाएँ। 

लाल, हरा, पीला शिमला मिर्च 1/4 हिस्सा हर एक का मिलाएँ। लें। बिना नींबू और नमक के लें। स्वाद के लिए नारियल और herbs मिलाएँ।

रात के खाने में इस अनुपात से खाना खाएँ 2 कटोरी सब्ज़ी के साथ 1कटोरी चावल या 1रोटी लेएक बार पका हुआ खाना रात को 7 बजे से पहले लें।

7.एक नियम हमेशा याद रखें ठोस(solid) खाने को चबा कर तरल (liquid) बना कर खाएँ। तरल  को मुँह में घूँट घूँट पीएँ। खाना ज़मीन पर बैठ कर खाएँ। खाते वक़्त ना तो बात करें और ना ही TV और mobile को देखें।ठोस  भोजन के तुरंत बाद या बीच बीच में जूस या पानी ना लें। भोजन हो जाने के एक घंटे बाद तरल पदार्थ ले सकते हैं।

हफ़्ते में एक दिन उपवास करें। शाम तक केवल पानी लें, प्यास लगे तो ही पीएँ। शाम 5 बजे नारियल पानी और रात 7 बजे सलाद लें।

8. उपवास के अगले दिन किसी प्राकृतिक चिकित्सक के देख रेख में टोना लें। जिससे आँत की प्रदाह को शांत किया जा सके। एनिमा किट मँगा लें। यह किट ऑनलाइन मिल जाएगा। इससे 200ml पानी गुदाद्वार से अंदर डालें और प्रेशर आने पर मल त्याग करें। ऐसा दिन में दो बार करना है अगले 21 दिनों के लिए। ये करना है ताकि शरीर में मोजुद विषाणु निष्कासित हो जाये। इसके बाद हफ़्ते में केवल एक बार लेना है उपवास के अगले दिन। टोना का फ़ायदा तभी होगा जब आहार शुद्धि करेंगे।

धन्यवाद।

रूबी, 

प्राकृतिक जीवनशैली प्रशिक्षिका व मार्गदर्शिका (Nature Cure Guide & Educator)



11:31 AM | 09-10-2020

Dear Naina,

Thanks for sharing your query with us. We do appreciate your pain and discomfort. We would like to share with you how you can deal with these problems as per Nature Cure.

Please understand that, as per Nature Cure, the body works in unison and different health issues (vertigo, cervical in your case) eventually are related. Toxic overload is the basic root cause of all diseases. Toxins are a byproduct of metabolism and also get added due to wrong lifestyle choices. Over a period of time, this toxic overload can lead to a state of imbalance in the body. However, when we further ignore the symptoms or try to suppress them and then the state of the disease takes a turn for the worse. This is when the body has completely given up and starts shutting down slowly, resulting in degenerative diseases like cervical. When there is damage, the body wants to repair & it indicates this damage through symptoms like dizziness & pain. We need to support the body to be able to repair and get relief from pain.

As per nature cure, one can reverse this state of imbalance by getting back in sync with the natural laws of living. We would thereby urge you to transition into a natural lifestyle and experience your body's own healing mechanism. You can explore our Natural Health Coaching Program. It helps you in making the transition, step by step. Our Natural Health Coach will look into your daily routine in a comprehensive way and give an action plan. She / he will guide her on diet, sleep, exercise, stress to correct her existing routine & make it in line with Natural Laws.

In the meanwhile, please also refer to the below resources:

Blog - Can you make changes to relieve your cervical spondylitis

Real-life natural healing stories of people who cured cervical just by following Natural Laws.  

Wishing you good health!

Team Wellcure


Scan QR code to download Wellcure App
Wellcure
'Come-In-Unity' Plan











Whoops, looks like something went wrong.